ऐसी है बाहुबली के मामा की रीयल लाइफ, जरूर देखें कटप्पा की ये साउथ फिल्में

बाहुबली के कटप्पा सत्यराज के नाम से जानेें जाते हैैंं. वे चेन्नई एक्सप्रेस में भी नजर आ चुके हैं. (फोटो : cinebilla.com)
बाहुबली के कटप्पा सत्यराज के नाम से जानेें जाते हैैंं. वे चेन्नई एक्सप्रेस में भी नजर आ चुके हैं. (फोटो : cinebilla.com)

ब्लॉक बस्टर ’बाहुबली’ और ’बाहुबली-2’ में कटप्पा का रोल करने वाले सत्यराज का जन्म तमिलनाडु के  कोयंबटूर में 03 अक्टूबर 1954 को हुआ था. उनका रीयल नाम रंगराज  सुबय्या है, लेकिन उन्होंने अपना नाम सत्यराज रख लिया, लेकिन बाहुबली के बाद लोग अब उन्हें कटप्पा के नाम से जानते हैं.

1979 में सत्यराज ने साउथ के निर्माता मधमपट्टी शिवकुमार की भतीजी माहेश्वरी के साथ शादी की. उनसे सत्यराज के एक बेटा सिबिराज और बेटी दिव्या हैं. सिबिराज एक्टर है, उन्होंने अपने कैरियर की शुरूआत ’स्टूडेंट नंबर 1’ (2003) से की थी. वह फिल्म फ्लॉप रही, लेकिन उसके बाद सिबिराज कई हिट फिल्मों में काम कर चुके हैं.

सत्यराज के बेटे सिबिराज ने 14 सितंबर 2008 को रेवती से शादी की. रेवती पेशे से इंजीनियर हैं और चेन्नई की एक आई टी कंपनी में काम करती हैं. शादी से पहले दोनों एक दूसरे को 10 साल तक डेट करते रहे. सत्यराज की बेटी दिव्या ने एम.फिल., पी.एच.डी.  किया है. वह एक न्यूट्रिशनिस्ट हैं.

सत्यराज ने अपने कैरियर की शुरूआत नेगेटिव रोल्स के साथ की थी. आजकल वो एक्शन, ड्रामा, कॉमेडी सभी तरह के किरदार एक जैसी खूबी के साथ कर रहे हैं.  अब तक वो 200 से ज्यादा फिल्मों में काम कर चुके हैं. शाहरूख खान स्टॉरर ’चेन्नई एक्सप्रेस’ (2013) में सत्यराज ने दीपिका पादुकोण के पिता का किरदार निभाया था. सत्यराज द्वारा अभिनीत साउथ की फिल्मों में ’वेधम पुधित्थू’ (1987), नदीगन’ (1990), पेरियर (2007), ओनबधु रूबाई नोत्तू (2007), ननबन (2012), काफी महत्त्वपूर्ण हैं. इनमें उनके महत्त्वपूर्ण किरदार थे.

सत्यराज 1986 से वे फिल्मों में विग पहनते आ रहे हैं लेकिन ’बाहुबली’ में उन्हें ओरिजनल बोल्ड लुक में प्रस्तुत किया गया और उनका वह लुक ऑडियंस को बहुत पसंद आया. अब सत्यराज ने तय किया है कि  वो अपने नेचुरल लुक के साथ ही फिल्में करेंगे. ’बाहुबली 2’ के बाद सत्यराज की आने वाली फिल्मों में ’मदई थिरान्तु’ और ’विजय 61’ काफी महत्त्वपूर्ण हैं.

(इस लेख के विचार पूर्णत: निजी हैं. India-reviews.com इसमें उल्लेखित बातों का न तो समर्थन करता है और न ही इसके पक्ष या विपक्ष में अपनी सहमति जाहिर करता है. यहां प्रकाशित होने वाले लेख और प्रकाशित व प्रसारित अन्य सामग्री से जुड़े सभी दावे या आपत्ति के लिए सिर्फ लेखक ही जिम्मेदार है. आप भी अपने विचार या प्रतिक्रिया हमें editorindiareviews@gmail.com पर भेज सकते हैं.)

सुभाष शिरढोनकर

लेखक और स्तंभकार.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *